KYC क्या है और ये क्यों जरुरी है

Technology and Money advice

KYC क्या है और ये क्यों जरुरी है

what is kyc in hindi

आप ने कई बार केवाईसी (KYC in hindi ) शब्द को जरूर सुना होगा जब आप का काम बैंकिंग या किसी वित्तीय संस्थान में होगा तब आप ने अपना केवाईसी (KYC) करवाया होगा। पर क्या आप जानते है ये केवाईसी (KYC) होता क्या है और किस काम में आता है। अगर हम इसे सरल शब्दों में समझे तो – कोई भी बैंक या वित्तीय संस्थान किसी भी व्यक्ति का केवाईसी (KYC) इसलिए करवाता है जिस से की वह उस व्यक्ति से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सके। केवाईसी का अर्थ उसके पूरे नाम में छुपा हुआ है इसका पूरा नाम “Know Your Customer” मतलब अपने ग्राहक के बारे में जानकरी है।

what is kyc in hindi

बैंकिंग या वित्तीय संस्थान आप से एक बार या एक से बार ज्यादा बार केवाईसी (KYC) मांग सकता है। जिस से की वह अपने कस्टमर की जानकरी को अपडेट कर सके। भारत सरकार किसी भी सरकारी काम काज से जुड़े केवाईसी के लिए छ: प्रकार के दस्तावेजों को मान्य किया है जिस से आप अपनी पहचान को प्रूफ कर सकते है। इन छ: दस्तावेजों मे से आप कोई सा भी दस्तावेज आप केवाईसी (KYC) के लिए उपयोग कर सकते है।

जिन छ: दस्तावेजों से आप अपनी पहचान को सुनिश्चित करवा कर, अपना केवाईसी कर सकते है वो निम्नलिखित है।

  1. ड्राइविंग लाइसेंस
  2. मतदाता पहचान पत्र
  3. पेनकार्ड
  4. पासपोर्ट
  5. राशन कार्ड
  6. आधार कार्ड जो कि यूएआइडीआई द्वारा जारी किया गया हो।

उपरोक्त में से आप कोई सा भी डॉक्यूमेंट का उपयोग कर आप केवाईसी करवा सकते है, अगर आप के उपयोग किये गए डॉक्यूमेंट पर आप का एड्रेस है तो आप का एड्रेस को प्रमाणिक मान लिया जाता है। अगर आप के दिए डॉक्यूमेंट पर एड्रेस नहीं है तो आप को अपने एड्रेस को प्रमाणिक करने के लिए आप को अलग से कोई डॉक्यूमेंट देना होगा जिस पर आप का एड्रेस हो। जिस से की आप का एड्रेस प्रमाणिक हो सके।

ऐसे प्रमाणिक करे अपना एड्रेस

अगर आप का दस्तावेज आप के एड्रेस को प्रामाणिक नहीं कर पाए तो आप टेलिफोन, बिजली या गैस का रि- फिलिंग बिल, पासपोर्ट, बैंक अकाउंट स्टेटमेंट लगा कर भी अपना एड्रेस को प्रूफ कर सकते है। अगर आप के पास इनमेसे से कोई डॉक्यूमेंट उपस्थित नहीं है तो आप कूरियर पर लिखा एड्रेस जिसके हस्ताक्षर को बैंकर्स ने सत्यापित किया गया हो। राशन कार्ड, नियोक्ता द्वारा जारी नियुक्ति पत्र, व्यावसायिक बैंकों के बैंक मैनेजर द्वारा भेजा गया पत्र से भी अपने एड्रेस को प्रमाणित कर सकते है।

कई संस्थाएं आप के दिए गए केवाईसी दस्तावेज को स्वयं द्वारा सत्यापित करने को भी बोल सकती है और कभी कभी किसी प्राधिकृत अधिकारी द्वारा प्रमाणित किया होना भी आवश्यक होता है यदि आवश्यक हुआ तो इन दस्तावेज को किसी प्राधिकृत निधि से प्रमाणित करवा कर अटेस्टेट भी कराया जा सकता है।

केवाईसी क्यों महत्वपूर्ण होता है-

केवाईसी बैंको और वित्तीय संस्थाओं बहुत ही आवश्यक है, क्यों की केवाईसी व्यक्ति विशेष की पहचान के लिए बहुत ही आवश्यक है। वित्तीय संस्थाओं केवाईसी के द्वारा व्यक्ति के नाम उसके पते के साथ उसके फोटो से उसकी पहचान करती है। जिस से की धोखाधड़ी और और जालसाजी से बचा जा सके क्यों की बैंको और वित्तीय पैसो के लेन देन का काम करती है और ऐसे में धोखाधड़ी की आशंका बढ़ जाती है इसलिए केवाईसी और भी महत्त्व पूर्ण हो जाता है।

इसी लिए अगर आप बैंक में आकउंट खोलना चाहते है या अपना पैसे कही निवेश करना चाहते है या म्यूच्यूअल फंड्स में लगाना चाहते है तो आप को भी केवाईसी करवाना आवश्यक होगा जिस से की आप अपने पैसे को धोखाधड़ी और और जालसाजी से बचा सके।

English summary – kyc is very important verification process in financial services in this artical we explain what is kyc in hindi

Related post

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *