दुनिया के सबसे गरीब देश – top 5 poorest country in the world in hindi

Technology and Money advice

दुनिया के सबसे गरीब देश – top 5 poorest country in the world in hindi

Poorest country in the world in hindi

Poorest country in the world in hindi दुनिया मे किसी देश की माली हालत (गरीब) जानना हो तो हम उसकी जीडीपी को देखते है जीडीपी एक पैमाना है जिस से हम उस देश की आर्थिक स्थिति को जान सकते है अभी वर्तमान में भारत की जीडीपी 1942 डॉलर है । इस पोस्ट में हम दुनिया के 5 सबसे गरीब देशो की बात करेंगे और जानेंगे की वो कौन से देश है जो दुनिया में सबसे गरीब है।

Poorest country in the world in hindi

दुनिया के 5 सबसे गरीब देश

मालवी (malawi ) –

गरीबी की लिस्ट में सब से ऊपर नाम मालवी जो कि अफ्रीका महाद्वीप के एक देश है यहां की जीडीपी 226.50 डॉलर है । यहां की 50% से ज्यादा भूमि कृषि योग्य नही है। प्राकृतिक संसाधनों की भी भारी कमी है। यहां का सकल घरेलू उत्पाद पिछले साल 31.7% था ।

बुरुंडी – 

बुरुंडी का नाम गरीबी के मामले में दूसरे नंबर पर आता है यह पर 60% से ज्यादा लोग गरीबी रेखा के नीचे आते है।बुरुंडी उप सहारा अफ्रीका के सबसे भ्रष्ट देशों में से एक है।शीर्ष व्यक्तिगत आय और कॉरपोरेट टैक्स दर 35 प्रतिशत हैं और समग्र कर का बोझ कुल घरेलू आय का 12.9 प्रतिशत बराबर है। पिछले तीन सालों में सरकारी व्यय कुल उत्पादन (सकल घरेलू उत्पाद) का 31.9 प्रतिशत था, और बजट घाटे का औसत सकल घरेलू उत्पाद का 4.1 प्रतिशत था। सार्वजनिक ऋण जीडीपी के 38.4 प्रतिशत के बराबर है। समग्र कारोबारी माहौल भारी नियमों और अक्षमता से गंभीर रूप से विवश है। 

सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक –

सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक भी एक अफ्रीकन देश है ये हमारी लिस्ट में तीसरे नंबर पर है । इस कि जीडीपी 333.20 डॉलर है ।यहां आधे से अधिक लोग गरीबी रेखा से निचके जीवन यापन करते है।शीर्ष व्यक्तिगत आयकर दर 50 प्रतिशत है, और शीर्ष कॉर्पोरेट कर की दर 30 प्रतिशत है । समग्र कर का बोझ कुल घरेलू आय का 4.4 प्रतिशत बराबर है। पिछले तीन सालों में सरकारी व्यय कुल उत्पादन (सकल घरेलू उत्पाद) का 14 प्रतिशत था, और बजट घाटे का सकल घरेलू उत्पाद का 2.2 प्रतिशत औसत था। सार्वजनिक ऋण जीडीपी के 65.0 प्रतिशत के बराबर है।

नाइजर –

नाइजर में राज्यो के आंतरिक उद्योगों ने देश की अर्थव्यवस्था बिगड़ दी है। निजी उद्योगों को बैंक ऋण नही देते । यह उद्योगों में राजनीतिक दबदबा अधिक है । न्यायिक व्यवस्था सही नही है। शीर्ष व्यक्तिगत आयकर दर 35 प्रतिशत है, और शीर्ष कॉर्पोरेट कर की दर 30 प्रतिशत है अन्य करों में ब्याज पर कर और पूंजीगत लाभ कर शामिल है। समग्र कर का बोझ कुल घरेलू आय का 15.5 प्रतिशत बराबर है। सरकार के खर्च में पिछले तीन वर्षों में कुल उत्पादन (जीडीपी) का 29.8 प्रतिशत रहा है, और बजट घाटे का सकल घरेलू उत्पाद का 6.0 प्रतिशत औसत रहा है। सार्वजनिक ऋण जीडीपी के 43.5 प्रतिशत के बराबर है।

लिबेलिया – 

लिबेलिया की जीडीपी 454.30 डॉलर है। न्यायपालिका कमजोर है और अपर्याप्त रूप से प्रत्याशित है। कुल मिलाकर सरकार का खराब कामकाज स्थानिक भ्रष्टाचार और प्रशासनिक क्षमता की कमी को दर्शाता है।लाइबेरिया की शीर्ष व्यक्तिगत आय और कॉरपोरेट टैक्स की दरें 25 प्रतिशत हैं समग्र कर का बोझ कुल घरेलू आय का 19 .7 प्रतिशत के बराबर है। सरकार के खर्च में पिछले तीन सालों में कुल उत्पादन (सकल घरेलू उत्पाद) का 36.5 प्रतिशत है, और बजट घाटे का सकल घरेलू उत्पाद का 6.2 प्रतिशत औसत रहा है। सार्वजनिक ऋण सकल घरेलू उत्पाद का 40.0 प्रतिशत के बराबर है।

Related post

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *