Inflation in Hindi – मुद्रास्फीति क्या है?

Technology and Money advice

Inflation in Hindi – मुद्रास्फीति क्या है?

Inflation meaning in hindi

इस पोस्ट में हम मुद्रास्फीति (Inflation Meaning in Hindi) के बारे में जानेगे। हम ने कई बार सुना है मुद्रास्फीति (Inflation) बढ़ गई है पर अधिकतर लोगो को यहाँ पता नहीं होता की आखिर है Inflation होती क्या है तथा ऐसे कैसे पढते है इसके बढ़ने तथा काम होने के कारण कौन कौन से है? तथा मुद्रास्फीति (Inflation) का असर देश की अर्थ व्यवस्था पर क्या होता है।

Inflation meaning in hindi

मुद्रास्फीति (Inflation Meaning in Hindi) क्या है?

मुद्रास्फीति (Inflation) को किसी देश की महंगाई दर को मापने का एक पैमाना है इससे ये पता चलता है की देश में महंगाई की दर कितनी है। ऐसे समझना इतना आसान नहीं है इसमें अर्थ इसमें नाम में ही छुपा हुआ है मुद्रा+स्फीति अर्थात मुद्रा का फैलाव या वास्तु के अनुपात में मुद्रा का काउंट या संख्या । ये थोड़ा उलझन भरा जवाव हो गया आओ ऐसे आसान शब्दो में समझते है।

आओ हम मुद्रास्फीति (Inflation) को आसान शब्दो में किसी उदहारण के साथ समझते है। मान लीजिये 100 लोगो का एक देश है और उसे देश में कुल 100 रूपए है मतलब हर एक के साथ 1 रूपए उन्ही लोगो में कुछ लोग राशन बेचते है और राशन की संख्या फिक्स है। अभी सब की क्रय सकती 1 रूपए है अगर हम उस देश में 100 रूपए और बड़ा दे तो हर एक की क्रय सकती 2 रूपए हो जाएगी पर राशन तो फिक्स है इस स्थिति में खरीदने वाले ज्यादा खरीदेंगे पर राशन की मात्रा तो पहले के बराबर ही ही तो राशन वाला अपने राशन की कीमत बड़ा देगा जिस से की रूपए की कीमत काम हो जाएगी तथा महंगाई बढ़ जाएगी। इस उदहारण में मुद्रास्फीति को समझने की कोशिस की है आसा है आप को समझ आया होगा।

मुद्रास्फीति के प्रकार

मुख्य तह मुद्रास्फीति के प्रकार 2 प्रकार की होती है या 2 करने के कारण होती है जो की निम्नलिखित है –

मांगजन मुद्रास्फीति (Inflation due to demand) –

मुख्य तह मुद्रास्फीति के प्रकार 2 प्रकार की होती है या 2 करने के कारण होती है जो की निम्नलिखित है। ये मुख्य तह सरकारी खर्चों में वृद्धि के कारण जब सरकार गैर जरुरी योजनाओ में पैसे लगाती है,सरकार द्वारा घाटे का बजट पेस करने की स्थिति क्यों की सरकार इस घाटे को पूरा करने के लिए ज्यादा करंसी छापती है, प्रत्यक्ष करों में कमी की स्थिति में क्यों की इस स्थिति में सरकार की आय में कमी हो जाती है तथा बैंकों द्वारा दिए जाने वाले ऋण की दर को बढ़ाने पर।

सप्लाई में कमी से मुद्रास्फीति (Inflation due to less Supply) –

जब किसी वस्तु की मांग बढ़ने पर भी उसकी सप्लाय में कोई वृद्धि नहीं होटी तब इस तरह की मुद्रास्फीति (इन्फ्लेशन) पैदा होती है इस स्थिति में वस्तु की कीमत बढ़ जाती है जिस से महंगाई दर बढ़ जाती है। ये निम्न करने के कारण होती है।

जमाखोरी के कारण – इस स्थिति में लोगो की रोजमर्रा की जरुरत की चीजी को जमाखोरी की स्थिति में उस वस्तु की कीमतों में इजाफा हो जाता है।

प्राकृतिक आपदा के कारण – इस स्थिति में लोगो की बेसिक जरुरत की चीजों की पूर्ति में कमी हो जाती है जिस से की उस की कीमतों में इजाफा हो जाता है।

लागत में बढ़ोतरी की स्थिति में भी मुद्रास्फीति की दर में बढ़ावा होता है क्यों की ये स्थिति तब पैदा होती है जब कच्चे माल की कीमतों में बढ़ोतरी होती है।

 

 

Related post

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *