/इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आर्इपीपीबी)
India-Post-Payments-Bank

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आर्इपीपीबी)

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आर्इपीपीबी) क्या है। इसके बचत तथा चालू खातों पर मिलने वाला ब्याज । आर्इपीपीबी ( India Post Payments Bank) कौन कौन सी सुविधा मुहैया करवाएगा । तथा इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आर्इपीपीबी) में खता खोलने के लिए पात्रता (eligibility) तथा इससे मिलने वाला लाभ तथा इसकी सीमा की बात हम इस पोस्ट में करेंगे। IPPB detail in hindi | ippb full details in hindi | information in hindi

Indian post payment bank

प्रधान मंत्री ने गाँवो में बैंकिंग सुविधा के प्रसार के लिए एक नई बैंक सुविधा इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आर्इपीपीबी) का सुभारम्भ 1 सितम्बर को किया।

जिस का  मुख्य लक्ष ऐसे रूलर एरिया में बैंक सुविधा मुहैया करना है जहा पर बैंक उपलब्ध नहीं है। इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आर्इपीपीबी) के जरिये भारत सरकार भारत के कोने कोने में बैंकिंग सुविधा मुहैया करवा पायेगी, जिस से की ग्रामीण अर्थ व्यवस्था को इस से काफी लाभ होगा।

इस नई बैंक प्रणली को पोस्ट ऑफिस से द्वारा संचालित किया जायेगा। इसका मलतब जहा पर भी पोस्ट ऑफिस उपलभ्ध है वह से आप  इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आर्इपीपीबी) की सर्विसेस का फायदा ले सकते है।

देशभर के लगभग 1.55 लाख डाकघरों को 31 दिसंबर, 2018 तक पेमेंट बैंक के रूप में तब्दील किया जाए। इसके बाद आप अपना बचत खता इस में खुलवा सकते है।

पहले चरण में 650 शाखाओं और 3,250 एक्सेस पॉइंट के साथ इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आर्इपीपीबी) शुरुआत की गई है। इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में भी खाताधारकों अन्य बैंक की तरह अपना बचत खता खुलवा सकते है जिस पर की बैंक आप को 4 फीसदी ब्याज देगा ।

आर्इपीपीबी में खाताधारक खाते में सालाना एक लाख रुपये तक जमा कर सकेंगे। लेकिन, इस जमा पर कर्ज उपलब्ध नहीं कराया जाएगा।

आर्इपीपीबी वित्तीय सेवाओं के लिए अन्य सरकारी बैंकों पर निर्भर रहेगा जैसे की बैंक ऑफ़ इंडिया और स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया इसके तहत अन्य बैंक सुविधा उत्भोक्ता को उपलब्ध कराइ जाएगी जैसे एटीएम कार्ड ऑनलाइन ट्रांसेशन सुविधा आदि।यानी इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आर्इपीपीबी) किसी सरकारी बैंक के एजेंट के रूप में काम करेगा।

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक सेविंग और करेंट अकाउंट, मनी ट्रांसफर, डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी), बिल और यूटिलिटी पेमेंट व दुकानदारों को भुगतान जैसी वित्तीय सेवाएं उपलब्ध कराएगा।

पेमेंट बैंक में भारत सरकार की १००% प्रतिशत हिस्सेदारी होगी। साथ ही इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक 1.55 लाख शाखाओ के साथ अब तक का सबसे बड़ा भुगतान बैंक बन जायेगा। ऐसा इसलिए क्योंकि इंडियन पोस्टल डिपार्टमेंट के पास तकरीबन 1.55 लाख डाकघर और तीन लाख से ज्यादा कर्मचारी हैं इन सभी 1.55 लाख इंडियन पोस्टल शाखाओ से इसे संचालित किया जायेगा।

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आर्इपीपीबी) के सामने कुछ चुनौतियां भी हैं। जैसे इसमें न्यूनतम बैलेंस की सीमा 0 रखी गई है। तिमाही आधार पर ब्याज दर को 4 फीसदी रखा गया है. यह ज्यादातर बचत बैंक खातों से बेहतर है। लेकिन, इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक में विभिन्न तरह के शुल्क और पाबंदियों का भी प्रावधान है।

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आर्इपीपीबी) के कुछ मुख्य बिंदु

  • खाताधारक घर पर ही नकद की आपूर्ति के लिए उसे हर लेनदेन पर कम से कम 25 रुपये का शुल्क के साथ जीएसटी के रूप अतिरिक्त शुल्क देना होगा
  • इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक की शाखा पर सिर्फ 25,000 रुपये तक की राशि मुफ्त निकासी के अंतर्गत आएगी अतिरिक्त के लिए उसे नियम अनुसार शुल्क का भुकतान करना होगा।(Note – 5,000 रुपये पर 5 रुपये का शुल्क और 10,000 से अधिक की निकासी पर 10 रुपये के शुल्क का प्रावधान है)
  • ग्रामीण डाकघर अपने पास ज्यादा नकदी नहीं रख सकते इसलिए उत्भोक्ता को नकद की निकासी में भी कठिनाई आ सकती है।
  • नकद जमा शुल्क के रूप में आर्इपीपीबी के अंतर्गत 15,000 रुपये तक रोजाना बिना फीस जमा करने की व्यवस्था है. लेकिन, इसके बाद प्रति 1,000 रुपये पर 1.5 रुपये का शुल्क देना होगा।

अगर हम इन बिन्दुओ पर गौर करे तो इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक अन्य बैंको की तरह ज्यादा उपयोगी प्रतीत नहीं होता पर यह ग्रामीण इलाको के लिए ज्यादा फायदेमंद होगा इस से ग्रामीण अर्थव्यवस्था को गति मिलगी । और ये ज्यादा से ज्यादा इलाको को कवर करने में सक्षम होगा ।

 

Related post